विज्ञापन

अचानक मुझे धड़धड़ाती-सी आवाज सुनाई दी: निर्मल वर्मा

अचानक मुझे धड़धड़ाती-सी आवाज सुनाई दी: निर्मल वर्मा
                
                                                                                 
                            मुझे बचपन का वह क्षण याद आता है, जब मैं मां के साथ ट्रेन में बैठकर जा रहा था। कहां जा रहा था कुछ याद नहीं, सिर्फ इतना याद है कि मैं सो रहा था, अचानक मुझे धड़धड़ाती-सी आवाज सुनाई दी। हमारी ट्रेन पुल पर से गुजर रही थी। मां ने जल्दी से मेरे हाथ में कुछ पैसे रखे और मुझसे कहा कि मैं उन्हें नीचे फेंक दूं। नीचे नदी में। पता नहीं, वह कौन-सी नदी थी, गंगा, कावेरी या नर्मदा? 
                                                                                                

  आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X