आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mud Mud Ke Dekhta Hu ›   mirza ghalib on allahabad by ravindra kalia
मिर्जा गा़लिब

मुड़ मुड़ के देखता हूं

अगर जन्नत का रास्ता इलाहाबाद से होकर जाएगा तो मैं जहन्नुम में जाना ज्यादा पसंद करूंगा...

अमर उजाला काव्य डेस्क, नई दिल्ली

5420 Views
अगर जन्नत का रास्ता इलाहाबाद से होकर जाएगा तो मैं जहन्नुम में जाना ज्यादा पसंद करूंगा।मिर्जा गा़लिब ने अपने एक खत में इलाहाबाद के बारे में अपनी यह राय जाहिर की थी । प्रसिद्ध लेखक रवींद्र कालिया ने अपनी किताब गा़लिब छुटी शराब में इस वाक्या का उल्लेख किया है। आगे पढ़ें

मिर्जा बारास्ता इलाहाबाद बनारस गए थे...

सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!