आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

रीझते हुए जीवन की चुनौतियों से रूबरू कराता ये नगमा

अकेला चल
                
                                                                                 
                            तनाव और विनाश के इस दौर में आज हर आदमी अपने आपको अकेला महसूस कर रहा है|  घर परिवार के सदस्यों के साथ रहते हुए भी उसे अपने अकेलेपन का एहसास धीरे धीरे होते जा रहा है | खैर ऐसे माहौल के बीच में आदमी सकारात्मक रहते हुए हिम्मत और साहस से काम ले तो उसे इस अकेलेपन से भी कुछ कर गुजरने की सीख मिल सकती है |  ध्यान और अध्यात्म साधना उसके अंदर असीम ऊर्जा और उत्साह का संचार कर सकती है | और व्यक्ति संकट के इस पल को भी अपने लिए एक अवसर बना सकता है |
                                                                
                
                
                 
                                    
                     
                                             
                                                
                                             
                                                
                                             
                                                
                                             
                                                
                                             
                                                
                                             
                                                
                                                                
                                        
                        आगे पढ़ें
                        

मुकेश अपने दर्द भरे नग्मों के लिए जाने जाते हैं

2 weeks ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X