आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Swachh aur sundar ho apne bharat ka galiyara

मेरे अल्फाज़

स्वच्छ और सुन्दर हो अपने भारत का गलियारा

Vishwa Vijay

25 कविताएं

17 Views
स्वच्छ और सुन्दर हो अपने भारत का गलियारा,
चलो साथ मिल करके करदें सुन्दर भारत प्यारा,
स्वच्छ रहें और स्वच्छ रखें, दूसरों को भी सिखलायें,
छोटे बड़े और नर - नारी सबको ये बतलायें,
स्वच्छ गाँव हो, स्वच्छ शहर हो, स्वच्छ हो भारत सारा,
चलो साथ मिल करके करदें सुन्दर भारत प्यारा -१
रहें सतर्क, सजग प्रहरी सा, कचरा दिखे नहीं छोटा सा,
यदि कोई नादान मिले तो, प्रेम से बस समझायें,
स्वच्छ रखेंगे हर दर को तो, दिखेगा भारत न्यारा,
चलो साथ मिल करके करदें सुन्दर भारत प्यारा -२
जिस दिन जन - गण के हर मन यह क्रांति रूप धारण होगा,
ह्रदय प्रफुल्लित होगा सबका, अपना नूतन भारत होगा,
स्वप्न नहीं, संकल्प संग हो, सुन्दर हिन्द हमारा,
चलो साथ मिल करके करदें सुन्दर भारत प्यारा -३

- विजय विश्व
दिल्ली

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!