आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

बचपन के वो दिन

                
                                                                                 
                            वो जो बचपन के दिन थे, वो बचपन की यादें
                                                                                                

ना कोई हमें चिंता थी, ना थी कोई फरियादें
बाबा के कांधे पे घूम जाते थे पूरा गांव
और बारिश के पानी में चलाते थे कागज की नाव

अब कहां वैसी खुशी , जिसका कोई कारण नहीं था
आज मुझको लगता है, वो बचपन का दिन ही सही था
मेरी वो बचपन की मुस्कुराहट क्यों नहीं लौट आती है
आजकल तो बिना मुस्कुराए ही सुबह से शाम निकल जाती है


वो बचपन की गलती, जब पापा डांटते थे
और हमारी आंखों से ,मगरमच्छ के आंसू आते थे
वो बूढ़े दादा और दादी जो बीच में आते थे
और मेरी तरकीब को देख पापा मुस्कुराते थे


वह पापा की डांट अब मिलती नहीं है,
मुझे देख , वह बचपन की मुस्कुराहट माँ पे खिलती नहीं है
वह बचपन की फुलवारी से अब रिश्ता कहां है,
अब तो सयानों के लिए भविष्य बनाना ही जहां है


न जाने क्यों कुछ लोग बचपनाहट पसंद नहीं कर पाते हैं,
अरे ! यह बचपन के दिन हैं हमेशा थोड़ी ना आते हैं
कुछ दिन सहलो इन्हें, फिर उनके यह लम्हे भी उड़ जाएंगे,
जिंदगी के दाब से वह बच्चे भी एकदिन सिकुड़ जाएंगे

विशाल पाठक

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
4 years ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X