आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   somnath ke shiv and sea waves

मेरे अल्फाज़

सोमनाथ के शिव और सागर की लहरें

Virendra Kumar

63 कविताएं

129 Views
वैरावल बंदरगाह,गुजरात स्थित सोमनाथ
ज्योतिर्लिंग हैं, बारह में प्रथम ज्योतिर्लिंग।
प्राचीन काल से ही तीर्थ स्थल रहा है हिरणा,
कपिला और सरस्वती नदियों का यह संगम।

अति प्राचीन,धार्मिक एवम् ऐतिहासिक
महत्त्व के हैं, सोमनाथ मंदिर के ज्योतिर्लिंग।
चन्द्र भगवान द्वारा पूजित होने से कहलाए
सोमनाथ में, स्थापित है काल भैरव लिंग।

यह विश्व प्रसिद्ध धार्मिक व पर्यटन स्थल,
हिंदू धर्म के उत्थान-पतन का रहा है प्रतीक।
अत्यंत वैभवशाली होने से, इतिहास में कई
बार तोड़ा जाता रहा और हुआ पुनर्निर्मित।

1783 में महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने
पास में एक अलग मंदिर का निर्माण कराया।
विध्वंसक शक्तियों से अपने शिव के बचाव
हेतु, गर्भगृह को जमीन के अंदर बनवाया।

यह मंदिर तो है ओल्ड सोमनाथ मंदिर
और अहिल्याबाई मंदिर कहलाया।

लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के
संकल्प से फिर हुआ, मंदिर का पुनर्निर्माण।
राष्ट्र को समर्पित सोमनाथ मंदिर, कैलाश
महामेरू प्रासाद शैली का है बेजोड़ नमूना।

- वीरेन्द्र कुमार
नई दिल्ली

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!