आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   chhand Mukari (Vasant)

मेरे अल्फाज़

छंद मुकरी (वसंत)

Vinod Rajak

22 कविताएं

30 Views
आना उसका मन हरसाए।
तन और मन दोनो को भाए।
मादक स्पर्श छुआ जैसे कंत।
ए सखी! साजन? ना सखी, वसंत।

मंजरी से बदन सह्लाए।
मधुकर सा चुमे और गाए।
लगे उस घडी का ना हो अंत।
ए सखी! साजन? ना सखी, वसंत।

ले आए सुर्ख टेसु के फूल।
संग उसके जाऊँ खुद को भुल।
अंक में भर के अधर काटे दंत।
ए सखी! साजन? ना सखी, वसंत।

आ वेणी में सुमन सजाता ।
पयोधर उत्सेध कर जाता।
हो अंग-अंग अनंग अनंत।
ए सखी! साजन? ना सखी, वसंत।

मदन भरे मन मंसिज मीता।
मन इस अनुरागी में रीता।
साथ न छोडुं पर समय बलवंत।
ए सखी! साजन? ना सखी, वसंत।


माननियों का दर्प मिटाए।
थके नहीं, हर वक्त थकाए।
अजमा कर देख, है ज्वलंत।
ए सखी! साजन? ना सखी, वसंत।


बदन बेसुध जो वो आए।
दर्प देख मयन, मन हीं मुस्काए।
सकेगा क्या उससे दिग दिगंत।
ए सखी! साजन? ना सखी, वसंत।

नहीं जो मानुँ, वो रुठ जाए।
रुठुँ जो मैं तो वो घबराए।
ना सुनुं उसकी तो हो अंत।
ए सखी! साजन? ना सखी, वसंत।

पल पल पंचशर वो चलाए।
भरे मदन तन अगन जलाए।
नहीं बचे देव या हो संत।
ए सखी! साजन? ना सखी, वसंत।

पुष्प पराग पटा हो कानन ।
उल्लसित शची सुरपुर आँगन।
मनोज, मेघपति कारण बने असन्त।
ए सखी! साजन? ना सखी, वसंत।

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!