आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Visthapan

मेरे अल्फाज़

विस्थापन

Vinod Mishra

6 कविताएं

70 Views
विस्थापन

हँसी-खुशी से कट रही जिंदगी को
जब नफरत के कसाईबाड़े की तरफ
झोंक दिया जाता है,
साबुत कुछ नहीं बचता --
सभ्यता-संस्कृति
पर्व-त्यौहार
रिश्ते-नाते
यहाँ तक की प्रेम-मोहब्बत भी;
तब लगता है :
जैसे अररा-कर गिर गया हो
कोई प्राचीन
लेकिन हरा-भरा-पूरा बरगद,
और जीवित पक्षियों की टोली
कूच करने को मजबूर हों
अपने मरे-अधमरे परिजनों को छोड़कर।
आह! तनिक सी अपनी जिंदगी
और हम अपनों में
न रह पाने के लिये
कितने अभिशप्त हैं!

विनोद मिश्र 


- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!