मेरी महफिल में

                
                                                             
                            वह मेरी महफिल में कभी जाम नहीं लेते
                                                                     
                            
गुनाह करते हैं पर इलज़ाम नहीं लेते

छा गया है जो उनके अशआर मे बेशुमार
वह इशारों से बताते हैं पर नाम नहीं लेते

चांद को उतारकर उनके चेहरे पर दिया
अब उसके बाद वो मुझसे कोई काम नहीं लेते


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
8 months ago
Comments
X