शब्दों से अनुशासित लिखना

                
                                                             
                            जब भी अपना परिचय लिखना
                                                                     
                            
सीमित और संतुलित लिखना

चाहे थोडा़ कम ही लिखना
शब्दों से अनुशासित लिखना

आगे जब भी रचना लिखना
सुंदर और सुभाषित लिखना

भावों से आप्लावित लिखना
गरिमा से सब शासित लिखना

प्यार ज़माने भर का लिखना
रसना बने सुवासित लिखना

मंजिल का रस्ता जब लिखना
निष्कंटक , निर्बाधित लिखना

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
1 month ago
Comments
X