आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Man ka sauda

मेरे अल्फाज़

मन का सौदा

Vineeta Tewari

67 कविताएं

320 Views
कुछ नहीं प्रिये यह प्रेम तो
मन का सौदा है
हृदय बीच वटवृक्ष
समक्ष बस पौधा है

कितनी जागीरें नष्ट हुईं
इसे पाने में
कितने मतवाले दिल को
इसने रौंदा है

लब की खामोशी देख कभी
यह सोचा है
तन का मन से कोई मेल नहीं
अलग्योझा है

संग संग रहना महज़
एक धोखा है
जीवन यापन के हेतु
बड़ा समझौता है

अक्षुण्ण रहता है प्रेम
वह हृदय घरौंदा है
इतने वर्षों से प्रश्न
ये मन में कौंधा है
कुछ नहीं प्रिये यह प्रेम तो
मन का सौदा है

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!