आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   PHYSICAL ACTIVIES OF MEN.

मेरे अल्फाज़

मानवीय भौतिक परिस्थितियाँ

Anonymous User

13 कविताएं

44 Views
लोगों की परिस्थितियाँ अब कुछ ऐसी होने लगी है ।
लोग भौतिकवादिता की ओर अब बढ़ने लगे है।
चारों तरफ हा-हाकार मची है जनसंख्या नियंत्रण का।
फिर भी लोग इन्द्रियों के दास बनने लगे है ।।1।।

खाने को भोजन, पहनने को वस्त्र,
रहने को घर अब उपलब्ध होते नहीं।
खेत में बनते अब मानवों के भौतिक साधन,
कच्चे पेड़ों को काट रहे हैं आज मानव।
जब खेत में बने मानवीय भौतिक साधन,
तब कैसे मौलिक आवश्यकता पूरी हो मनुज का।
मनुज अब पुरातन संस्कृति से गिरने लगे है ।
लोग अब भौतिक वस्तुओं के पीछे भागने लगे है।।2।।

जब होने लगे प्रकृति का ह्रास
तब प्रकृति ही संभाले अपने बुरा हाल।
मानव को अपनी मानवीयता सिखलाये ।
याद कराये उन्हें सनातन धर्म पुरातन व्यवहार।
जब लोग करने लगे प्रकृति का देख-भाल,
तब प्रकृति भी देने लगे उन्हें वृक्ष-छाया फलेदार।
जब तब करेंगे हम प्रकृति से प्यार,
तब तक प्रकृति नहीं देंगे हमें,
कोई आपदा-संकट-काल ।।3।।

कवि विकास कुमार


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!