आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   KARO PARISHRAM K ATHINAI SE .

मेरे अल्फाज़

करो परिश्रम कठिनाई से

Anonymous User

13 कविताएं

18 Views
करो परिश्रम कठिनाई से,
तुम जब तक पास तुम्हारे तन है ।
लहरों से तुम हार मत मानो,
ये बात सीखो तुम मँक्षियारा से ।
जब मँक्षियारा नाव चलाता,
विचलित नहीं होता वह विपरित धाराओं से ।
लाख सुनामी चक्रवात बवंडर से टकराकर
वह लक्षय को भेद जाता है ।
गगन की जयघोष की नारा से उसकी आँखें नम जाता है ।

निरन्तर, कठिनाई, परिश्रम में ही छिपा भविष्य तेरे बंदे है ।
परिश्रम, कठिनाई, निरन्तरता से कभी मुँह मत मोड़ना बंदे ,
यहीं तो तेरे भाग्य-विधाता है ।
करे परिश्रम कठिनाई से जो नर वही तो पाते अपना भविष्य-लक्ष्य है ।
कर्महीन, विषयरम, इन्द्रियनिर्लिप्त मनुष्य ऐसे ही जग में जीवन गँवाते है ।
और अर्थ-अभाव दर-दर मारे फिरते है ।

तन है चोला मिट्टी का, वस्त्र तेरे कोई शान नहीं ।
मिट्टी में मिट्टी मिल जायेंगे , वस्त्र तेरे उतार लिये जायेंगे ।
कर लो सदुपयोग नर तन का, यहीं तो काम आवेंगे ।
जो नर मिट्टी को मिट्टी समझे,
कड़ी -धूप में अन्न उगाते (बीज बोते) ।
वहीं नर फसल काटते छाँव में ।।
ऐसे ही नर कहलाते जगत में दिव्यस्वरूप महान है ।
करो परिश्रम कठिनाइ से जब तक पास तुम्हारे तन है ।।

परिश्रम, कठिनाई, असफलता, निरंतरता सफलता के हैं चार स्तम्भ ।
इन चारों स्तम्भों से गुजारना ही सफलता के हैं प्रथम उद्देश्य है ।
निरन्तरता नर को गुणों को निखारता, परिश्रम किसी कर्म के योग्य बनाता ।
असफलता सफलता की पहली सीढ़ी होती
व जीवन की कठिनाई हैं सफलता की गगनचुंबी ।
करो परिश्रम कठिनाई से जब-तक पास तुम्हारे तन है ।।
लहरों से तुम हार मत मानो ये बात सीखो तुम मँझियारा ।।

कवि विकास कुमार


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!