आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   पिता

मेरे अल्फाज़

मेरे अल्फ़ाज़

Anonymous User

24 कविताएं

116 Views
।।पिता ।।

घर की जिम्मेदारियों होती जिनके कंधो पे ।
मान-मर्यादा के सीमा का पालन करे ।
वो धीर पुरूष-मर्द कठिन कार्य करे ।
परिवार चलाये जो अपने मेहनत के पसीने से ।
अर्द्धंगिनी को जो सीता-सावित्री माने ।
अपने मेहनत के पसीने से जो धरा पे स्वर्ग बसाये
वह मर्द-पुरूष पिता कहलाते है ।।1।

जो अपनी संतान के लिए कड़ी धूप में तपते है ।
शरद् में अपनी कोट अपने संतान को देते है ।
फाल्गुन के रंगों में रंग नहीं होते क्या पिता के ?
वो मिष्ठान वो पुआ बनते है पिता के पसीनों से ।
ऐसे ही नर जग में पिता कहलाते है ।
जो अपने संतान के लिए कड़ी में तपते है ।।2।।

रात के नींद और दिन के चैन जो गँवाते है ।
सुनते है सदा अपने मालिक के खड़ी-खोटी ।
फिर भी वो सदा मुस्कुराते हुये जिन्दगी को जीते है ।
उन्हें गम नहीं होता मान-अपमान का,
वो गीता के अध्यायों पे जिन्दगी जीते है ।
कर्म ही महान है, इसीलिए वो सदा कार्य करते है ।।3।।
.
-- कवि विकास कुमार ।।


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!