नारी शक्ति को प्रणाम

                
                                                             
                            प्यार तुम ही से है जीवन में 
                                                                     
                            
इस जग का आधार हो तुम !
रोज़ बदलती इस दुनिया में 
आस्था का संसार हो तुम !!
कोमलता की मूरत हो कभी 
तो शक्ति का संचार हो तुम !!
स्याह-सफेद से इस जीवन में 
रंग उकेरती कलाकार हो तुम !!
न कोई समय सीमा का बंधन 
हर पल हर दिन खास हो तुम !!
नारी शक्ति को प्रणाम

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
1 month ago
Comments
X