आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Meri chahat
Meri chahat

मेरे अल्फाज़

मेरी चाहत

Utkarsh Dwivedi

8 कविताएं

14 Views
हर एक उंचाईं पर हमें अपने पैरों के निशान चाहिए,
या यूँ कहलो के हमे सारा का सारा आसमान चाहिए,
कुछ यूँ डटे रहो अपने सफर में तुम,
के जो देखे वो बोले इसे तो बस अपना मकाम चाहिए,
मैं नहीं लोग बताएँगे मेरी कहानी,
मुझे हर एक के ज़ुबान पर अपना नाम चाहिए,
जो कहानी बीच में छोड़ गई हो तुम,
मुझे उस कहानी का अंजाम चाहिए,
हर लड़ाई तेरी मैं शिद्दत से लड़ा,
तू भी याद रखना खुदा, मुझे मेरा इनाम चाहिए,
तुझसे अब प्यार की मांग नहीं करता मैं,
बस कभी कभी तेरे लबों पर अपना नाम चाहिए,
मेरी वफ़ा को तो खूब परखा तुमने,
अब मुझे भी तुम्हारे इश्क़ का इम्तेहान चाहिए,
जिनके कारण अलग हुए हम,
उन सब से मुझे अपना इन्तेक़ाम चाहिए,
रक़ीब से कहना की आएँगे हम तेरी शादी में,
पर मुझे मेरा अलग इंतज़ाम चाहिए।।

उत्कर्ष

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Your Story has been saved!