इश्क इबादत है....

                
                                                             
                            तुम्हारी हर बात तुमसे कहेंगे ,
                                                                     
                            
तुम इश्क करो या नफरत,
हर सितम सहेंगे ।
तुम बदल गए,
यह तुम्हारी फितरत है,
हम कभी नहीं बदला करेंगे ।
दिल है, कोई खिलौना नहीं ,
जो खेला और तोड़ दिया ,
तुम तोड़ते रहो ,
हम जोड़ते रहेंगे ।
अहम तुम मे है,
तो अहम् मुझमें भी है ,
मगर झुकते हैं हम,
क्योंकि इश्क इबादत है ।
क्योंकि इश्क इबादत है ।।

उषा शुक्ला साथी
 
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
5 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X