बचो बचो, बचाओ बचाओ

                
                                                             
                            बचो बचो, बचाओ बचाओ
                                                                     
                            
भारतवर्ष के युवा शक्ति को
नशीले और मादक पदार्थों के सेवन से

ना होने देंगे शरीर को भीतर से खोखला
ना झूमेंगे ना झूमने देंगे
करो करो स्वयं से प्रण करो

भ्रम में ना रहो
समझ लो नशीले और मादक पदार्थ तुम्हारे दोस्त नहीं
ये न तुम्हें खुशहाल रहने देंगे
निकलो निकलो भरम जाल से निकलो

व्यायाम करो चेहरे और शरीर को स्वस्थ बनाओ
युवा शक्ति ये ना भूलना , तुम हो भारतवर्ष की युवा शक्ति


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
8 months ago
Comments
X