आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   1-The Sunlight2-The sun of my city

मेरे अल्फाज़

कुछ प्रकृति पर

sulakshana datta

3 कविताएं

13 Views
देखते ही देखते
धूप
हवा हो गयी
कुछ आवारा बादल निगोड़े
कुतर रहे थे पर उसके।

हर दिन
जल्दी नहीं जागता
फ़टाफ़ट नहीं भागता

कभी कभी
नीम की फुनगी पर है रुकता
कभी बरगद की मिट्टी से सने बालों को
करता है स्पर्श

कभी सीधे
धरती के सीने से लगी
नर्म दूर्वा को
सहलाता है
आते ही

किसी किसी दिन
बाहर क्यारी में रखी
अधभरी बाल्टी पानी में डुबकी लगा
अपनी गर्मी उतारता
हल्का हो ऊपर उठता है

दालान में बनी सीढ़ियों को
फिसलपट्टी बना
धड़ाम से
औंधे मुंह गिरता

झेंपता हुआ तुलसी के पीछे
कोने में छुप जाता

जब कोई देख न रहा हो
सरपट भागता

अगले दिन लौटता
मेरे शहर का सूरज।

सुलक्षणा 'रूह'

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।

 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Your Story has been saved!