आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Do not Grope my heart
Do not Grope my heart

मेरे अल्फाज़

न देखो मेरा मन यूँ टटोलकर

Sudhir Bansal

40 कविताएं

259 Views
आग बारिश का पानी लगाने लगा |
दिल में धुआँ उठा यूँ मन खौलकर ||

हवाएँ ही पहले से मुश्किल बनीं हैं |
आँधी न बनो अब यूँ डोलकर ||

दिल में तूफ़ान पहले से आया हुआ है |
तोड़ो न मेरा दिल अब यूँ बोलकर ||

घोलने को तो सब कुछ घुल ही जायेगा |
दिखाओ न तेवर यूँ बिष घोलकर ||

दिल को दिल से ही दिल में छिपाना भी सीखो |
बनाओ न दूरी अब यूँ तौलकर ||

बिकने वाला तो कब का बिक ही गया |
ख़रीदो न हमको अब यूँ मौलकर ||

लोगों को तो कुछ भी मजा चाहिए |
घूमो न कहीं यूँ बदन खोलकर ||

इतना गुस्सा भी आना मुनासिब नहीं ।
दिल भी पकने लगेगा यूँ खौलकर ||

प्यार को प्यार से ही छू लो मगर |
न देखो मेरा मन यूँ टटोलकर |

-सुधीर बंसल

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!