होली के रंग

                
                                                             
                            होली के दिन दिल मिल जाते हैं।
                                                                     
                            
रंगों में रंग जाते हैं।।
बैर भाव से मिट जाते हैं।
आपस में मिल जाते हैं।।
सारे जहां को ख़ुशियों की लहरें।
ख़ुशियों से भर देती हैं।।

होली के दिन दिल
बच्चे भी नाचे बूढ़े भी नाचे।
आपस में गले मिल जाते हैं।।
प्यार का संदेशा देते हैं।
और सदा मुस्काते हैं।।

होली के दिन दिल
प्रकृति भी खुश हो जाती है।
फसलें भी लहरती हैं।।
सारे जगत को रंगों की होली।
रंगों में रंग जाती है।।

होली के दिन दिल मिल जाते हैं।
रंगों में रंग जाते हैं।।


नितेश कुमार पाठक
बाहोरवा हरदोई


सखियो के संग होली खेलन घर जो मेरे आये
मैं कान्हा बन जाऊ उस दिन, वो राधा बन जाये
वसन्त ऋतू के इस मौसम में खेले रंग गुलाल
गोरे गोरे गाल गोरी के गोरे गोरे गाल

जब जब मुझ को देखे शर्म से हो जाते है लाल
गोरे गोरे गाल, गोरी के गोरे गोरे गाल

शादाब जफर ‘‘शादाब’’
नजीबाबाद (बिजनौर)


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। तेरी कहानी में... 

 
1 year ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X