आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Prem Ek Maaya

मेरे अल्फाज़

प्रेम एक माया

Shrishti Tiwari

1 कविता

209 Views
अंतर्द्वंद चल रहा हृदय में, नैनों में लालिमा छायी है,
क्रोध से व्याकुल हुये वो जैसे घोर आँधियाँ आयी हैं।।

किये समर्पित जिसे स्वयं को, रहा न कोई मोल उसी का,
ज़रा भी उन्हें हुआ न पीड़ा,पत्थर के जैसा मन है जिसका।।

कभी वो सोचे कभी वो विचारे, नहीं दिखे कोई पैग़ाम,
कैसे मिलेगा कोई भी रस्ता, हुआ क्रोध से सब बरबाद।।

हुआ था उनको भ्रम कि वो कोई छल नहीं एक प्रेम था,
आज हुआ जब हृदयाघात, सच भी इक नई सकल में था।

बुने स्वप्न जो मिलन की उनको, क्यूँ ऐसा पल दिखाया,
मरे वो पल-पल अपने भाग्य पर कहाँ से ऐसा क्षण आया।।

कहाँ मुड़े वो किधर को जाये, हर ओर उसकी छाया है,
निःशब्द वो अब हिल गए हैं, क्या ये प्रेम नही एक माया है।।


- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!