आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   JUDAA HOKAR

मेरे अल्फाज़

जुदा होकर

Shivanand Chaubey

14 कविताएं

31 Views
जुदा होकर भी दिल मेरा उन्हें बस याद करता है
वो करती नफरतें हमसे मगर फरियाद करता है

तड़प बस एक नजर दीदार को उनके ये रहता है
की जैसे बादलों के दरमियां ये चाँद करता है

कभी बेचैन होता दिल कभी धक से धड़क जाता
दुआयें महफिलें मेरी तुम्हें ये आज करता है

दिले मेहमां हो मेरे तुम शिवम् एहसान कर देना
मोहब्बत की दवा देकर न गम का साज करता है

जवानी चांद भी खोकर रवानी पे न रहता है
मगर ऐ हमसफर मेरे तू किस पर नाज करता है !!

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!