आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

देशभक्ति गीत

                
                                                                                 
                            चलो कुछ कमाल करें
                                                                                                


आओ हम सब मिलकर कुछ ख़ास करे,
अपने देश अपनी भारत माँ का नाम करे

न देखे ये है बेटी न देखे ये है बेटा,
सब बने इस देश के रचयिता ..
सबकी शिक्षा, सबकी रोटी, सबकी छत हो,
आज ये कसम खानी है, मेरे देश में चारों
ओर खुशहाली हो मिलकर.....
कुछ ऐसी हवाएं चलानी है....
भाई, बहन, दोस्त बनकर सबके
सपनो को साकार करे....

आओ हम सब मिलकर कुछ ख़ास करे
अपने देश अपनी भारत माँ का नाम करे

इस देश के है हम सब देशवासी
सोने की चिड़िया कहलाये क्या..
भूल गए सब रहवासी.. दोहराना है
जो बिखर गई.. आज वो कहानी..
तन-मन-धन से अपने श्रम से...
एकजुट होकर चलो कुछ कमाल करे

आओ हम सब मिलकर कुछ ख़ास करे
अपने देश अपनी भारत माँ का नाम करे

हिन्दू, मुस्लिम सिख, ईसाई
बढ़कर कदम से कदम मिलाये
न हो निर्भर चीन, न हो रूस पर,
अपने देश में हर औज़ार बने
अपने घर में ही हर सामान बने,
अपने देश की ऊर्जा से...
अपने आत्मनिर्भर भारत की शान बड़े

आओ हम सब मिलकर कुछ ख़ास करे
अपने देश अपनी भारत माँ का नाम करे

न भूलो वीर जवानों को,
न भूलो उन कर्मयोद्धाओ को
मत भूलो उस चरखे को.. जिसकी
पहचान हमारी निशानी है....
अपने देश की मिट्टी से अपने
शहीद वीर जवानों का इस्तकबाल करे

आओ हम सब मिलकर कुछ ख़ास करे
अपने देश अपनी भारत माँ का नाम करे

न ही है ये बड़ी बड़ी बाते
न ही है ये बातों के बताशे
ग़र ठान ले मन में, हों जाये
दूर अँधेरे हर घर में ...
एकजुटता.धर्मनिरपेक्षता,
आत्मनिर्भरता की मशाल जलाकर
अपने स्वावलम्बी भारत का आगाज़ करे..

आओ हम सब मिलकर कुछ ख़ास करे
अपने देश अपनी भारत माँ का नाम करे

अनुराधा लखेपुरिया 'शाक्य'
मुम्बई
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
2 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X