जीना इसी का नाम है

                
                                                             
                             जिंदगी मिली है तो मुस्कुराइए जनाब,
                                                                     
                            
कुछ चाहने वालो को तो जिंदगी भी नहीं मिलती।।

जिंदगी छोटी ही सही पर गर्व से जिंदा रहिए,
वो जिन्दगी भी क्या कि खुद पर शर्मिंदा रहिए ।।

 जिन्दगी ऐसे जिओ, चेहरा दिल में समा जाए,
जब भी वो तुम्हें याद करें , उनके चेहरे पर अदद मुस्कान आ जाए।।

- शालिनी श्रीवास्तव
उपासना दिल से


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
8 months ago
Comments
X