आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Ye mulk shan se
Ye mulk shan se

मेरे अल्फाज़

हमारी पाठक शालिनी कौशिक ने बयां की मुल्क की शान

Shalini Kaushik Advocate

13 कविताएं

1822 Views
फरमा रहा है फख्र से ,ये मुल्क शान से ,
कुर्बान तुझ पे खून की ,हर बूंद शान से।

फराखी छाये देश में ,फरेब न पले ,
कटवा दिए शहीदों ने यूँ शीश शान से .

देने को साँस लेने के ,काबिल वो फिजायें ,
कुर्बानी की राहों पे चले ,मस्त शान से .

आज़ादी रही माशूका जिन शूरवीरों की ,
साफ़े की जगह बाँध चले कफ़न शान से .

कुर्बानी दे वतन को जो आज़ाद कर गए ,
शाकिर है शहादत की हर नस्ल शान से .

इस मुल्क का गुरूर है वीरों की शहादत ,
फहरा रही पताका यूँ आज शान से .

मकरूज़ ये हिन्दोस्तां शहीदों तुम्हारा ,
नवायेगा सदा ही सिर सरदर शान से .

पैगाम आज दे रही कुर्बानियां इनकी ,
घुसने न देना फिर कभी सियार शान से .

करते हैं अदब दिल से अगर हम शहीदों का ,
छोड़ेंगे बखुशी सब मतभेद शान से .

इस मुल्क की हिफाज़त दुश्मन से कर सकें ,
सलाम मादरे-वतन कहें आप शान से .

मुक़द्दस इस मुहीम पर कुर्बान ''शालिनी'' ,
ऐसे ही सिर उठाएगा ये मुल्क शान से .

- शालिनी कौशिक
[कौशल]

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!