आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Tum tab bhi rahna chattan adig ...

मेरे अल्फाज़

तुम तब भी रहना चट्टान अडिग ...

Shailabh Shubhisham

11 कविताएं

32 Views
जब लोग यहाँ धिक्कारेंगे,
अंतर्मन को मारेंगे,
सच्चाई नहीं स्वीकारेंगे ;
तुम तब भी रहना चट्टान अडिग …
वो अंत में खुद से हारेंगे ...

चहुँ ओर दिया बुझ जाएगा,
बोझ से मन झुक जाएगा ...
हर दिशा समय रुक जाएगा ;
तुम तब भी रहना चट्टान अडिग …
चक्की में घुन पिस जाएगा ...
फिर वक़्त बदल के आएगा ...

वो अश्रु का मोल न समझेंगे,
कुछ प्यार के बोल न समझेंगे ,
मन में फिर शंका जागेगी ,
मन हर क्षण लंका भागेगी ...
दस रुपी रावण उठ जाएगा ;
तुम तब भी रहना चट्टान अडिग ...
फिर राम-राज्य छा जाएगा ...

फिर विष का सेवन करना होगा ,
अँधेरे से डरना होगा ,
फिर पैदा होगा कंस यहाँ ...
फैलेगा विध्वंस यहाँ ;
तुम तब भी रहना चट्टान अडिग ...
फिर जागेगा नर-सिंह अंश यहाँ ...

मन में क्रोध तो जागेगा ,
शैतान रगों में भागेगा ,
जब द्वेष भी हावी हो तुमपे ;
तुम तब भी रहना चट्टान अडिग ...
जब परिवेश प्रभावी हो तुमपे ...

जब दुर्योधन आग लगाएगा ,
जब कर्ण धर्म जल जाएगा ,
जब पहला निर्णय छल से होगा ;
तुम तब भी रहना चट्टान अडिग ....
क्योंकि अंतिम निर्णय बल से होगा ...
फिर न्याय यहाँ कल से होगा ....
फिर न्याय यहाँ कल से होगा ...
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!