आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   badal garjataa hai

मेरे अल्फाज़

बादल गरजता है

Savita Mishra

7 कविताएं

104 Views
बादल जब जब गरजता है,
मेरे दिमाग में खटकता है!!
मुझे लगता है,
धमकाता है यह धरती को,
अपनी औकात बतलाता है,
इस विशाल धरती को
एक धीमी सी गर्जना से
थर्रा देना चाहता है !!

बादल नहीं जानता कि धरती,
धीमी सी गर्जना से नहीं थर्रायेगी,
बादल कितना भी बौखलाए
कितनी भी बिजलियाँ गिराए,
पर नहीं तोड़ पायेगा वह धरती को।

गिराता है बिजली!
हिमशिला गिराता है!!
कुछ लकीरें अवश्य पड़ती हैं,
पर यह धरती उसे
स्वयं में छिपा लेती है,
अपने को टूटने से बचा लेती है।

बादल फिर आँसू बहाने लगता है,
उसी को लोग बरसात कहते है!!
पर लोग क्या जानें कि
यह बरसात नहीं !
बल्कि बादल का रोना है
अपनी हार पर।

धरती उसके आँसुओं को
अपने में समेट लेती है,
फिर उन्हीं आँसुओं से
बादल का पेट भरती है।

यही चक्र हर बार चलता है,
बादल अपना कर्म करता है,
धरती अपना कर्म करती है,
बादल गरजता है!!
मेरे दिमाग में खटकता है,
शायद धमकाता है धरती को
अपनी औकात बतलाता है।।

और धरती हर बार सोचती है,
क्षमा बड़न को चाहिए
छोटन को उत्पात।।

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Your Story has been saved!