आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   See what has happened to me

मेरे अल्फाज़

देखो न मैं क्या से क्या हो गया हूँ

Saurabh Suman

1 कविता

22 Views
देखो ना मैं क्या से क्या हो गया हूँ
तुझे पाने की कोशिश में खुद को हीं खोने लगा हूँ
तूने आँख भर देखा जो मुझे
मैं खुदा से तुझे पाने की दुआएं माँगने लगा हूँ

देखो ना मैं क्या से क्या हो गया हूँ
दिल मेरा कितना नादान है ये समझने लगा हूँ
तूने पलके जो गिराई मुझे देखकर
ख्वाबों में तुझे मैं देखने लगा हूँ

देखो ना मैं क्या से क्या हो गया हूँ
बेफिक्र सा मैं अब थोड़ा संभलने लगा हूँ
तूने जुल्फ को खोला जो मुस्कुरा कर
पन्नों में तुझे मैं उतारने लगा हूँ

देखो ना मैं क्या से क्या हो गया हूँ
कितना कुछ मैंने खोया ये भूलने लगा हूँ
तूने हल्की सी मुस्कान लायी जो होठों पर
जीने की कला मैं सीखने लगा हूँ

देखो ना मैं क्या से क्या हो गया हूँ
बिखरा जो था मैं हवाओं में अब सिमटने लगा हूँ
तूने मोहब्बत की फुहार मारी जो मेरे दिल पर
देखो ना मैं महकने लगा हूँ

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!