सुंदर

                
                                                             
                            चलो, एक सुंदर देश बनायें
                                                                     
                            
चलो, एक सुंदर वेश बनायें
चलो, एक जुट हो अब जायें
चलो, साहस के पेड़ लगायें
चलो, देश हित कुर्बान हो जायें
चलो, शिक्षा घर-घर पहुंचायें
चलो, मानव प्यार से भर जायें
चलो, तिरंगा स्वर्ग तक लहरायें।

- सहज
बागी बलिया के रचयिता


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
8 months ago
Comments
X