आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Nam Hai Mera Golu Hathi

मेरे अल्फाज़

नाम है मेरा गोलू हाथी

Saroj Yadav

271 कविताएं

297 Views
नाम है मेरा गोलू हाथी
मैं खेलूँ दिनभर फुटबॉल
मुझसे कोई क्या जीतेगा
मेरा साथी है फुटबॉल
मुझे नहाने जाना होता
साथ इसे भी ले जाता हूँ
ये आगे को भागा करता
पीछे पीछे मैं जाता हूँ
मेरे हर पल का साथी
मुझसा गोलू ये फुटबॉल
नाम है मेरा गोलू हाथी
मैं खेलूँ दिनभर फुटबॉल
मुझसे सभी पूछते बोलो
लगता नहीं थकाऊ काम
दिन भर तो तुम भागा करते
करते नहीं हो क्यों आराम
लेकिन मुझको अच्छा लगता
करूँगा कल मैं इसमे नाम
जंगल कोई मैच कराए
मिलेंगे मेडल मुझे तमाम
घर में बच्चों तुम न बैठो
बाहर निकलो करो धमाल
मेरे जैसे तुम भी खेलो
जाकर ले आओ फुटबॉल
नाम है मेरा गोलू हाथी
मैं खेलूँ दिनभर फुटबॉल
मुझसे कोई क्या जीतेगा
मेरा साथी है फुटबॉल .....

-  सरोज यादव "सरु"

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!