आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   mai nhi likhta

मेरे अल्फाज़

मैं नहीं लिखता

sanju kirmara

9 कविताएं

122 Views
मैं नही लिखता आजकल मेरी तन्हाई लिखती है
उसकी यादों के किस्से उसकी बेवफाई लिखती है

सोचता हूँ कड़वी घूँट पी जाऊँ उसकी यादों की
पर क्या करूँ यादों को उसकी रुसवाई लिखती है

कैसे कह दूँ हुआ हमारा कत्ल ए आम मुहब्बत में
मुहब्बत की हर बात प्यार में हुई लड़ाई लिखती है

अब भूल तो जाऊँ रोकर काटी उन तन्हा रातों को
उसकी खूबियाँ शाम उसके साथ बिताई लिखती है

ठान लेता न जाने कितनी बार उसको भूलने की
पर ये सब उसे न भूलने की कसमें खाई लिखती है

कई बार करता है मन तोड़ दूँ इस कलम को अब
कलम का क्या ?ये तो दिल में बात आई लिखती है

न जाने कितनी बार कोशिश की उससे दूर जाने की
पर उसकी हर दास्ताँ उसकी हुई विदाई लिखती है


- संजय किरमारा ' उज्जवल '

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!