आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Jid --- kuchh kar gujarne ki

मेरे अल्फाज़

जिद-कुछ कर गुजरने की

Sanjeev Sharma

23 कविताएं

443 Views
जिन्हें है प्यार शिखरों से,वो हिमालय भी चढ़ते हैं।
गिरें सौ बार भी लेकिन ,वो गिरकर फिर संभलते हैं।
जिन्हें जिद कर गुजरने की, मेहनत ही ईमान जिनका।
असम्भव कुछ नहीं रहता,वो जिस भी ओर बढ़ते हैं।

-संजीव शर्मा
राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय (खटौली )पंचकूला हरियाणा।

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!