आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Raah bahut pathreeli hai

मेरे अल्फाज़

राह बहुत पथरीली है

Sanjay Narayan

66 कविताएं

69 Views
सोच समझकर कदम बढ़ाओ राह बहुत पथरीली है।
साथी मीठे सुर गुंजाओ, दुनिया तो जहरीली है।।

ख़ुशी परायी देख ख़ुशी से किसका हृदय मचलता है।
कौन हृदय है जिसके भीतर प्रेम- पपीहा पलता है।
बिना कपट के किस कोकिल के स्वर का जादू चलता है।
स्वार्थ न हो तो तुम्हीं बताओ, किसकी कूक सुरीली है।

साथी मीठे सुर गुंजाओ दुनिया तो जहरीली है।।

रसनाओं के विषदंतों पर मधुरावरणी चोंगा है।
कानों ने इनसे उपजा विष शीश झुकाकर भोगा है।
सहनशक्ति है अगर बलवती सक्षम तभी दरोगा है।
श्रवणों ! उससे खैर मनाओ जिसने रसना सी ली है।

साथी तुम्हीं मधुरतम गाओ दुनिया तो जहरीली है।।

मोहक कलियाँ मिल जाती हैं राहों में आते जाते।
कुछ के अधर इशारा करते कुछ के नैना मुस्काते।
मृग मरीचिका ये आकर्षण सम्मोहन ही बिखराते।
इस मद की जद में मत आओ, वनिता नयन नशीली है।

साथी मीठे सुर गुंजाओ दुनिया तो जहरीली है।।

जीवन एक दौड़ स्पर्धा ठहर गए तो हार गए।
बाधाओं के गहरे सागर जो उतरे वो पार गए।
चलते चलते थके वही जो नहीं समय की धार गए।
समझो सँभलो बढ़ते जाओ पगडण्डी रपटीली है।

साथी मीठे सुर गुंजाओ दुनिया तो जहरीली है।।

- संजय नारायण

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!