आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   kintu safar aasaan rahega

मेरे अल्फाज़

किन्तु सफर आसान रहेगा

Sanjay Narayan

66 कविताएं

6 Views
जीवन एक सफर है जिसमें
तरह तरह के पथ आएंगे।
जो पथिकों को लक्ष्य भुला दें
कुछ ऐसे मन्मथ आएंगे।।

कहीं मोह आड़े आएगा
कुछ आलस की अड़चन होगी।
कहीं परिश्रम थक जाएगा
कहीं नियति से अनबन होगी।
सत्य झूँठ के दोराहे पर
दुविधा होगी पंथ चयन की।
क्रम से साथ रहेंगे सुख दुख
जब होगी मन की बेमन की।

कभी नेह ने आलिंगन कर
सुख दुख सारे बांटे होंगे।
ह्रदय हृदय के मध्य गर्त भी

मुस्कानों ने पाटे होंगे।
कहीं ईर्ष्या ,जलन ,कुढ़न के,
छल के सैर सपाटे होंगे।
कहीं सफर की चहल पहल में
गूंज रहे सन्नाटे होंगे।

विनयी गाँधी के गालों पर
अंग्रेजों के चांटे होंगे।
भेदभाव के कंकड़ होंगे
जातिवाद के कांटे होंगे।

छुआछूत की बीमारी से
ग्रस्त कहीं पर पथ आएंगे।
जो विचरेंगे बिना विचारे
पाँव वही लथपथ आएंगे।।

पहले सर से बोझ उतारे
सही डगर चुनकर पग धारे।
सहयात्री का हाँथ थाम ले
फिर उसका भी मार्ग संवारे।

गठरी हल्की ही रखेगा
जिसे सफर का भान रहेगा।
साथ सफर करने बालों की
सुख सुविधा का ध्यान रहेगा।

मन में जो सामान भरा है
वह भी थोड़ा कम कर लेगा।
शत्रु नेत्र में अश्रु देखकर
आंखे अपनी नम कर लेगा।

मानवता का कल्पवृक्ष हो
तो जग देवमही हो जाए।
मन को जीतो फिर जो सोचो
वैसा और वही हो जाए।

दया क्षमा करूणा सनेह से
हृदय अगर धनवान रहेगा।
सफर बड़ा अथवा छोटा हो
किन्तु सफर आसान रहेगा।

परहित भाव भरे ह्रदयों के
दर्शन को तीरथ आएंगे।
भ्रमित पार्थ में गीता भरने
नारायण चढ़ रथ आएंगे।।

संजय नारायण

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!