आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Daduron ne taan chhedi

मेरे अल्फाज़

दादुरों ने तान छेड़ी

Sanjay Narayan

66 कविताएं

13 Views
दादुरों ने तान छेड़ी, चुप रहो तुम कोकिलाओं !

हुआ वातावरण कलुषित, कर रहा विष वार चंदन।
और दूषित गंध अंजुल भर, प्रणय अभिसार उपवन।
निज प्रकृति से सुरभि लेकर, तुम न महको ओ हवाओं!

नभ दिशा में ताकता मन, कब घृणा पर प्रीत बरसे।
दुर्बलों के सम्बलों से, सबल जन विपरीत बरसे।
निर्बलों पर प्रबल बरसे, तुम न अब बरसो घटाओं !

हृदय काले मन कुचाली, वेशभूषा संत वाली।
नेक, अनचाहे अतिथि को, दे रहे अनगिनत गाली।
विलखती हैं दश दिशाएं, अब न तुम गूंजो ऋचाओं !

संजय नारायण


हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
 
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!