आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Ab Man Sapna Dekhega

मेरे अल्फाज़

अब मन सपना देखेगा

Sanjay Narayan

66 कविताएं

22 Views
आकांक्षा से मिली प्रेरणा,
ललक लगी पा लेने की,
आस अनल में दहक रहा मन,
तन का खपना देखेगा।।

अभिलाषाएँ जाग उठी हैं
फुर्सत वाला शौक गया।
असंतृप्ति का झोंका मन की
मन्द अगिन को धौंक गया।
ज्यों कर्तव्यनिष्ठ मतवाला
श्वान कान में भौंक गया।
धूमिल से स्वप्नों में डूबा
मन हलचल से चौंक गया।

जो निद्रा में देखे जाते
सपने नहीं कहे जाते,
अभी अभी जब नींद उड़ी है
अब मन सपना देखेगा।।

आस लिये वंशोद्धार की
कञ्चन मृग मारीच हुए।
प्राण दिये या लिये जगत -हित
कर्म नहीं ये नीच हुए।
लाखों प्रेमी हमसे पहले,
कई हमारे बीच हुए।
अगणित हुए प्राण उत्सर्गी
अनगिन वीर दधीच हुए।

धर्म राष्ट्र है, कर्म राष्ट्र है,
जिसका व्रत संकल्प राष्ट्र है,
सच्चा वीरव्रती बलिदानी
दर्द न अपना देखेगा।।

बीज घृणा के बोकर कोई
प्रेम छाँव पाना चाहे।
कटु शब्दों को संयोजित कर
गीत मधुर गाना चाहे।
चाह निरर्थक है उस उर की
राह गलत जाना चाहे।
हृदय-मात्र को, हृदय बात बस
इतनी समझाना चाहे।

प्रेम के केवल ढाई अक्षर
जिसे समझ आ जाएंगे,
तड़प उठेगा हृदय, हृदय का
अगर तड़पना देखेगा।।

- संजय नारायण

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!