आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

आज की नटछडी युवा

                
                                                                                 
                            मैं आज की नटछडी युवा ,
                                                                                                

थोडी नादा और थोडी दुआ,
अपनों का साथ सलोना ,
माॅं पापा का प्यारा खिलोना !
ख्बाब तो हरदम आखों में ,
सारा जहाॅं कैद है सासों में ,
उडने को मैं आजाद परिंदा ,
कहाॅं नजर में मेरे कोई घरोंदा !
कदम कदम बदले कभी इरादा ,
थामा कोई हाथ निभाता वादा ,
सोच लूँ जो मैं एक बार तो ,
मुश्किल है मुझे रब को रोकना !
मैं देश की मजबूत होती कमान ,
हाथों में मेरे विज्ञान की तीरकमान,
मुझसे बढता विदेशों में देश सन्मान !
हरदिन करु मैं नया अविष्कार ,
दुनिया ही बने मेरा संसार ,
मैं सिखाऊ सबको मानवता,
सबके साथ चलने में धन्यता !

- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
6 months ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X