आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Sham dhalte dhalte

मेरे अल्फाज़

शाम ढलते-ढलते...

Rohit agrawal

25 कविताएं

28 Views
सुबह होती है उम्मीदों से साथ
दिन गुजरता है उम्मीदों से साथ
उम्मीदें टूटने लगती हैं
शाम ढलते-ढलते...

सोचते सोचते
निकल जाता हॅूं जिन्दगी से आगे
बिखर जाते हैं सारे सपने
शाम ढलते-ढलते...

चलते चलते
पहुॅच जाता हूॅं ख्वाबों के सागर में
दूर हो जाते हैं सारे रास्ते
शाम ढलते-ढलते...

जब भी सोचता हूॅ जिन्दगी के बारे में
थक जाता हूॅं सोचकर
शाम ढलते-ढलते...

बच्चे निकलते हैं लेकर सुबह उम्मीदों का बस्ता
लौटते हैं उम्मीदों के साथ
शाम ढलते-ढलते...

रोहित अग्रवाल

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!