आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Kite
Kite

मेरे अल्फाज़

पतंग

Renu Mishra

14 कविताएं

85 Views
जब तक तुझसे जुड़ी थी
तभी तक उड़ी थी
उसकी हर उड़ान
तुझ संग बँधी थी
तेरे प्यार से ऊर्जित
वह आसमां छुई थी
तेरे हाथों से स्पंदित
हवा में लहराई थी
वह ऊंचा मुकाम पा
अपने वज़ूद पर इतराई थी
और अचानक यह उड़ान ही
उसके टूटने का कारण बनी
टूटी गिरी ज़मीं पर
मिट्टी में मिल गई
पर खुश थी
कि मिटने के पहले
उसने आसमां छू लिया था
वह पतंग थी
जिसकी डोर तेरे हाथ थी

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!