आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   It is very interesting poem which I wrote with feel.

मेरे अल्फाज़

मंजिलों का दौर

Ravindra Shrivastava

5 कविताएं

6 Views
मंजिलो का दौर आज से शुरू हुआ है,
ग़फ़लत में ज़िन्दगी हर बार हुआ है,
खुशियों का सेहरा सर चढ़ कर कर रहा बयां,
की कोई अक्स दिल पर अब राज कर रहा है...

कुछ खास होता है ज़ज़्बातों का दौर जीवन में,
उस सहमी सी छुअन का कुछ अलग ही है एहसास,
अठखेलियां का भी न होता जिनपे कोई जोर,
उन्हें महसूस कर दिल होता उनके ओर...

नादानियों से है गहरा वास्ता जिनका,
यही तो नाजुक डोर है जिससे बंध जाउ मैं,
पल पल ख़ुमारियों का कशिश बढ़ता है,
इसी उल्फत में जिंदिगी बस अब कटता है...

नज़ारे भी देखे तो दिल में हलचल होता है,
सुर्ख लालिमा से दिल का आंगन रंगीन होता है,
जब जब सोचे ये पागल दिल उनके बारे में,
कुछ अज़ीब सा महसूस दिल में होता है...

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Your Story has been saved!