आपका शहर Close
Kavya Kavya
Hindi News ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Bujhte Diye
Bujhte Diye

मेरे अल्फाज़

बुझते दिये

Ratna Pandey

115 कविताएं

185 Views
बुझते दिये
मिट्टी से सने हाथ,धूप से तपता शरीर,
सूर्योदय से सूर्यास्त तक मेहनत करते ,
दिल में यह उम्मीद लिये,कि जल उठेंगे दीपावली पर,
हमारी मेहनत से बनाये हुए दिये।

दिल में बड़े अरमान होते हैं ,
जब अपने परिश्रम में लिपटे दिये बनाकर,
उन्हें बेचने के लिए वह तत्पर होते हैं ।
सपना देखते हैं अब हम भी दीपावली मनाएंगे ,
घर में मिठाई लाकर खाएंगे और
हमारे आँगन में फुलझड़ियों के साथ हम भी मुस्कुराएंगे ।

घंटों बैठकर इंतज़ार करते हैं ,
कोई तो आएगा ,जो हमें हमारी मेहनत
का फल दे जायेगा।
कोई तो हमारे पसीने और हमारे अरमानों की कद्र करेगा ।

निकल जाते हैं उनकी दुकानों के आगे से लोग कुछ इस तरह,
जैसे कुछ देखा ही ना हो उस तरह।
शाम ढले निराशा ही हाथ लगती है ,
अथक परिश्रम के बाद भी ,
उनकी दीपावली अंधेरे में ही सिमटती है ।

चमकीली,रंगबिरंगी,बिजली के उपकरणों से जगमगाती
दिवाली लोग मनाते हैं।
झोपड़ी में जलते हुए मिट्टी के दिये ,
बड़ी बड़ी अटारियों की रौशनी देखकर ,
कुंठित से हो जाते हैं।
उन्हें याद है वह हाथ जिन्होंने उन्हें बनाया था ,
उनपर अपना पसीना बहाया था
और उम्मीदों का महल सजाया था।
उन हाथों के लिए वह दिये पश्चाताप करते हैं ,
अपने आप को कोसते हैं कि
काश हम भी इतनी रौशनी दे पाते,
कि बड़ी बड़ी अटारियों पर चमक पाते ,
तो आज हम पर पसीना बहाने वालों का ,
हम कुछ तो क़र्ज़ उतार पाते।

काश दियों की ही तरह ,
इंसान का दिल भी उन मेहनतकश हाथों के लिए तड़पता।
जो दिन रात मिट्टी में रहते हैं,मिट्टी में पलते हैं,
और बड़ी ही मशक्कत करके,
मिट्टी को चिराग के रूप में गढ़ते हैं।
उसमें अपनी कलाकारी का लेप लगाकर,
उसकी सुंदरता को और भी निखारते हैं।
और इतने कम मेहनताने में हमें दे जाते हैं I
विदेशी रौशनी की लत कुछ
ऐसी लगी है कि हर कोई उसमें बह गया।
बुझ गये दीपक सभी ,बस तेल बाकि रह गया।
दिल में जो अरमान थे वह अरमान सारे जल गये।
मेहनतकश इंसानों के ,पसीने व्यर्थ ही बह गये।

बुझ रहे हैं दिये,आओ मिलकर यह संकल्प कर लो और फिर से उन्हें प्रज्जवलित कर दो।
गरीबों की रोज़ी रोटी है यह ,
उनका पेट भरने का थोड़ा सा जतन कर दो।
अपने तो अपने होते हैं ,इसलिए अपने देश की दौलत
अपनों में ही बंटने दो।
बुझती हुई आशाओं में उम्मीदों की किरण भर दो।
मिट्टी और पसीने को गढ़कर,
दिये बनाने वाले कलाकारों के साथ,
एक नई शुरुआत कर दो I

अगले वर्ष जब हम दीपावली पर बात करें ,
तो बुझते दियों की नहीं बल्कि जलते दियों की बात करें।
और विदेशी चमक दमक पर नहीं,
अपने देश के मेहनतकश कलाकारों पर नाज़ करें।
अपने देश के मेहनतकश कलाकारों पर नाज़ करें।

-रत्ना पांडे

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!