आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Aaj to swarg garvit ho raha hai

मेरे अल्फाज़

आज तो स्वर्ग गर्वित हो रहा है

Ratna Pandey

155 कविताएं

275 Views
नहीं डरा कभी, नहीं रुका कभी
नहीं झुका कभी,
यह वह शख्सियत थी जो,
अंधेरों में रोशनी भर गई
यह वह हस्ती थी जो रुके हुए,
कदमों को चलना सिखा गई
लाख कोशिशों के बावजूद,
नहीं पहुंच पा रहे थे लक्ष्य तक
किंतु था बंदे में इतना दम,
कि लक्ष्य तक पहुंचा दिया
देश को सशक्त बनाने का,
मार्ग भी बना दिया
देश को अपना सर्वस्व समर्पित,
करने वाले कभी नहीं जाते
एक युग बीत गया, सब कहते हैं,
किंतु नहीं होता अंत कभी उस युग का,
जीवन के घटना क्रम में
बातें उनकी हरदम दोहराई जायेंगी
यादें उनकी साथ रहेंगी
हमनें एक अटल नहीं
लाखों अटल विचारों के
जनक को खोया है
जो आने वाले वक़्त में
और भी कुछ हमें दे जाते
नहीं किसी कलम में स्याही इतनी कि
उनकी गाथाओं को पन्नों पर बिछा पाए
अनगिनत प्रतिभाओं से
प्रभु ने उन्हें नवाज़ा था
प्रभु की दी हर प्रतिभा को उन्होंने
अपने जीवन में उतारा था
गये नहीं वह चिरनिंद्रा में सो गए हैं
तस्वीर बन कर हृदय में बस गए हैं
आज धरा ग़मगीन हैं, हवाएं शांत हैं
उनके चाहने वाले शून्य में खो गए हैं
हर आंख नम है ,
वह हाथ गर्वित हो रहे हैं
जिन्होंने उनकी देह को छुआ है
स्वर्ग आज धरा को चिढ़ा रहा है
देख तेरा सबसे अच्छा लाल
तेरा अजातशत्रु तुझे छोड़
आज मेरे पास आ रहा है
अब मैं भी धन्य हो जाऊंगा
गर्व से भर जाऊंगा।

-रत्ना पांडे

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!