आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   aaj ke hum

मेरे अल्फाज़

आज के हम

Rashi Saxena

22 कविताएं

185 Views
हम सभी आज के दौर में कुछ अजीब लगते हैं
बढ़ते तो आगे हैं पर चलते पीछे हैं
आज की इस चलती फिरती दुनिया में
तन्हाई का भी अजीब सा आलम है
पैगाम बहुत मिलते हैं पर कोई हाल नहीं जानता
बोलते तो सब हैं पर कोई बात नहीं करता
दोस्त तो सब बनते हैं पर दोस्ती कोई नहीं करता
ये भीड़ है मेले की पर साथ कोई नहीं होता
ये दौर ए मोहब्बत है पर ऐतबार कोई नहीं करता
बड़ी होशियारी से मिलते हैं सभी
बस होशियार ही कोई नहीं होता
चंद छोटे लालच में आकर
लोग ज़मीर खो देते हैं,
सच्चे रिश्ते भी दांव पे लगा देते हैं
करके ऊँचा कद खुद को नीचा कर लेते हैं
बड़ा सुंदर सा जीवन जो मिला है
उसमें न जाने कितने प्रश्न लगा देते हैं
छोटे से जीवन प्रवाह को न जाने
कितने ही बांधों में बाँध देते हैं
जरूरत बस एक मुस्कान की होती है
पर इसे सच्चा बनाने में पूरी उम्र गँवा देते हैं
क्यों दिखावे का सुरूर हम सब पे यूँ छाया है
कि जीवन का असली मज़ा यूँ ही किया ज़ाया है
चलो पहले से बेगुनाह हो जाते हैं
बच्चों से मासूम ता उम्र हो जाते हैं

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!