आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Kisaan ki peeda

मेरे अल्फाज़

किसान की पीड़ा

Ram Kumar

27 कविताएं

269 Views
आज़ादी से आज तक,
मिला मुझे आश्वासन,
भूल जाते हैं हमदर्दी भी,
पाते ही सिहांसन;
कौन सुनेगा?किसे सुनाऊँ?
युग-युग से रो रहा हूँ,
मैं किसान बोल रहा हूँ,
मैं किसान बोल रहा हूँ

कल तक थी जो मेरी हालत,
आज भी वहीं खड़ा हूँ,
कर्ज के साथ जिया हूँ जीवन,
कर्ज तले दबा हूँ;
पीपल के पत्तों की भाँति
अब तक डोल रहा हूँ,
मैं किसान बोल रहा हूँ,
मैं किसान बोल रहा हूँ

सदा उगाया अन्न खेतों पर,
खून-पसीना नित बहाकर;
सहन किया बेमौसम को,
दर्द सीने में दबाकर;
बदले में लोगों की जुबाँ पर
केवल अनमोल रहा हूँ,
मैं किसान बोल रहा हूँ,
मैं किसान बोल रहा हूँ।।

क्या होली और क्या दीवाली?
सब दिन मेरे बराबर हैं,
कभी चूल्हे पर आग है जलता,
कभी जलता सीने पर है;
खुशहाली की उम्मीद लिए
हर तकलीफें झेल रहा हूँ,
मैं किसान बोल रहा हूँ,
मैं किसान बोल रहा हूँ।।

माँग रहा हूँ सदियों से मैं
अपने श्रम की इतनी कीमत,
कि ख्वाबों को साकार सकूँ मैं,
जो देखता आया अब तक;
चलती नहीं जीवन की गाड़ी,
फिर भी ढकेल रहा हूँ,
मैं किसान बोल रहा हूँ,
मैं किसान बोल रहा हूँ।।

राम कुमार चन्द्रवंशी
बेलरगोंदी (छुरिया)
जिला-राजनांदगाँव
9179798316

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!