आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

यू सदा कलियाँ यहाँ खिला करे

                
                                                                                 
                            यू सदा कलियाँ यहाँ खिला करे
                                                                                                

रोज अपना मिलन यू हुआ करे I

सादगी से है भरी ये जिंदगी
हो दिलों में मोहब्बत दुआ करे I

लोग आये लोग जाये गम नहीं
हर दिल के दरीचे खुला करे I

रंजिशे दिल में लिए वो जी रहे
बोझ ये हो कम कुछ किया करे I

वो इशारे कर दिए जाये जिधर
जान फसी आफत में क्या करे I

सामने जब हम न हो बेचैन थे
ये तड़प यू ही सदा रहा करे I

थी हजारो आरज़ू दिल में मगर
झूठ सच में उलझकर जिया करे I

दो घड़ी पलके झुकाकर सोचना
पास अपने वो रहे खुदा करे I

गम न कर गम का यही है जिंदगी
लो चुरा खुशियाँ खुश रहा करे I


राकेश मौर्य ' शशि '
कल्याण, महाराष्ट्र
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X