आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Chalo fir se jee len

मेरे अल्फाज़

चलो फिर से जी लें

Rajkumar jain

3 कविताएं

493 Views
प्रकाशनार्थ दो कविताएँ

1- चुपचाप

उस गुलाबी शाम में
पुरवाई
उन्मुक्त -सी
खुशबूदार झोंकों के संग
बह रही थी
और हम….
बुन रहे थे सपने
चुपचाप

कहीं
क्षितिज के आस - पास
आंखों में
पल रहे थे ख्वाब
तुम
एलबम की तस्वीरों से
अपनी यादों को
ताज़ा कर रही थी
अपनी आंखों में उगे
कुसुम के सहारे
और मैं पिघल रहा था
तुम्हारी कोमल हथेलियों में
मोम की तरह

लहलहा रही है
इन आँखों के भीतर
एक उन्मुक्त झील
जिसमें
मेरी उम्र जमकर
बर्फ हो गई है!


2 - चलो, फिर से जी लें
"""""""""'""""''"""
तुमने दिए थे जो
गुलाब
आज भी सहेज रखे हैं मैंने
अपने दिल की किताब में
जिसकी खुशबू
यादें बन महकती रहती है

अच्छा लगता था
तुम्हारे इंतज़ार में
भावपूर्ण प्रेम पत्र लिखना
पढ़कर उन्हें
कई कई बार उन्हें
खुद ही
मन्द- मन्द मुस्करा देना

जब दर्द का
कोई अहसास
उतरता था दिल में
एक मासूम -सी ख्वाहिश बन
हर खुशी को समेटे
तुम चले आते थे
मेरे मन के द्वार पर

खोई मोहब्बत
दबे पांव आ धमकती है
दिल के सुने कोनो में
जज्बात के ताने- बाने
समेटकर कर
पूराने पड़ चुके प्रेम पत्रों
को फिर से सहेज लें

समय की उधेड़बुन में
हम खो न जाएं
चलो, फिर से जी लें
प्यार के उन पलों को
जो दिल में सजे सपनो को
सावन - सा महका दे
इस जीवन में
चमक भर दे सितारों - सी
फ़िर से
चलो एक बार जी लें।

 राजकुमार जैन राजन

आकोला - 312205 (चित्तौड़गढ़) राजस्थान
मोबाइल - 98282 19919
ईमेल- [email protected]

 उपरोक्त दोनों कविताएँ मौलिक,अप्रकाशित,अप्रसारित हैं  


- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़े गए
Top

Other Properties:

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Your Story has been saved!