जिंदगी मुट्ठी में बंद

                
                                                             
                            जिंदगी मुट्ठी में बंद रेत सी रिसती जाती है,
                                                                     
                            
जिंदगी पत्तों में पड़ी ओस सी झड़ती जाती है.
जिंदगी सुख दु:ख के धागों में उलझाती है,
नीम सी कड़वाती, कभी काॅफी सी महकाती है .

बचपन के वो रंगी सपने, ना जाने कहाँ सो गये,
बचपन के साथी संगी,ना जाने कहाँ खो गये.
जिंदगी फिर उसी बचपन को चाहती है,
जिंदगी मुट्ठी में बंद रेत सी रिसती जाती है.

यूं ही बीत गया जीवन, बेकार के ताने-बानों में,
यूं ही रीत गया जीवन, सपनों के घरौंदे बनाने में.
जिंदगी सर्दियों की धूप सी फिसलती जाती है.
जिंदगी मुट्ठी में बंद रेत सी रिसती जाती है.

जिंदगी के कितने पन्ने, कोरे - कोरे से रह गये,
जीवन के चमकीलें रंग, कुछ धूसर से हो गये.
जिंदगी फिर से उन्ही इंद्र धनुषी रंगों को चाहती है.
जिंदगी मुट्ठी में बंद रेत सी रिसती जाती है.

फूलों सी महकाती यादें, मन ही मन में सो गयी,
कितनी ही अनकही बाते, मन के धारों में खो गयी.
जिंदगी तितलियों सी हाथों से उड़ी जाती है,
जिंदगी मुट्ठी में बंद रेत सी रिसती जाती है.

लहरों सी कब आयी जिंदगी, ना जाने कब लौट गयी,
सुख-दुख के धागों में उलझी, ना जाने कब टूट गयी.
जिंदगी की सांझ कितनी अकेली हुई जाती है.
जिंदगी मुट्ठी में बंद रेत सी रिसती जाती है.

- राजेश्वरी जोशी,
उत्तराखंड

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
8 months ago
Comments
X