मेरी माँ

                
                                                             
                            जीवन के इस महासमर में
                                                                     
                            
मां तेरा है धैर्य अपार,
ममता के आंचल रख कर
लुटा दिया अपना संसार ।
अपने प्राणों की बलि देकर
हमें संवारा दे कर रक्त,
तेरे पूजन आराधन में
हुआ समर्पित तेरा भक्त।
मां मै प्रतिदिन तुमको देखा
पल पल तुम संघर्ष किए,
तुम अपार साहस बिखेर कर
बेटों के तुम साथ जिए।
ब्रह्मलीन हो गयी मां तुम
अमृतमय आयी जब वेला,
सभी दिशाएं मौन हो गईं,
हुआ निरर्थक यह सब मेला ।
त्याग तपस्या की मां देवी
तुम संघर्षों का प्रतिमान,
तूने हर क्षण हमें संवारा
देकर तुम जीने का ज्ञान ।
तेरे चरणों की धूलि है
हम सब के माथे का चंदन,
हे मां तुम भगवान हमारे,
हम सबका है प्रतिक्षण वंदन ।

- हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें
1 month ago
Comments
X