आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Have something to say

मेरे अल्फाज़

कुछ कहना है

Raj Shekhar

76 कविताएं

18 Views
कहना तो बहुत कुछ है, मगर कहूं कैसे?
दिल की बेचैनियों को मैं बयां करूं कैसे?

सोचा था कि खुद ब खुद ही समझ जाओगे,
प्यार की सौगात लेकर के तुम आओगे।

तुम न समझे न लौटकर आए,
गहराते रहे मायूसियों के साए।

मीलों तक पसरी ख़ामोशी है,
सूनी दिल की मेरी महफ़िल है।

काश होता कि तुम कहीं से आ जाते,
कश्मकश को मेरी खत्म कर जाते।

रह गई यह चाह भी अधूरी मेरी,
बुझ न सकी दिल की प्यास मेरी।

तुझसे मिलने की अब भी आस क्यों है?
हर घड़ी फिर भी इंतजार क्यों है?

कल्पना सिंह
आदर्श नगर, बरा, रीवा (मध्य प्रदेश)

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!